तहसीलदार कैसे बनें? | तहसीलदार का प्रमोशन किस पद पर होता है?

Tehsildar kaise bane in hindi: तहसीलदार को कर अधिकारी भी कहा जाता है हर एक एरिया में कोई न कोई तहसीलदार होता है और जमीन से संबंधित सभी कामों को देखने का काम एक तहसीलदार का होता है तो आप में से बहुत सारे स्टूडेंट्स का सपना होता है कि वे तहसीलदार की पोस्ट पर जॉब पाए इसलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको Tehsildar kaise bane in hindi से रिलेटेड पूरी जानकारी देंगे जैसा कि तहसीलदार कौन होता है, इनको क्या काम करना होता है, इसके लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, भर्ती प्रक्रिया क्या होती है और एक तहसीलदार को कितनी सैलरी मिलती है इसके लिए आप आवेदन कैसे कर सकते हैं तो अगर आप भी एक तहसीलदार बनना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Tehsildar kaise bane in hindi
Tehsildar kaise bane in hindi

तहसीलदार कौन होता है और इन्हें क्या काम करना पड़ता है?

तहसील के प्रभारी अधिकारी को ही तहसीलदार कहा जाता है एक तहसीलदार को कर अधिकारी भी कहते हैं एक जिले में कई तहसील होते हैं और हर एक तहसील में एक तहसीलदार होता है जो व्यक्ति भूमि से संबंधित मामलों को सुनता है उनका समाधान करता है इसके अलावा पटवारी द्वारा किए गए कामों का निरीक्षण करने का काम, सरकारी कर वसूलने का काम, जमीन से संबंधित सभी रिकॉर्ड को मेंटेन करने का काम एक तहसीलदार का होता है विद्यार्थियों का आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र निवास प्रमाणपत्र बनाना इसके अलावा अगर कोई अन्य प्रमाण पत्र भी बनवाना होता है तो ये काम तहसीलदार का ही होता है।

क्योंकि हर एक प्रमाण पत्र पर तहसीलदार के साइन होना जरूरी होता है तहसीलदार की ड्यूटी जिले में लगती है वहाँ पर किसी भी तरह की प्राकृतिक आपदा आने पर उसका तत्काल निरीक्षण करना और राहत अभियान शुरू करने का काम भी तहसीलदार को करना होता है इसके अलावा फसल का नुकसान हो जाने का किसानों को मुआवजा दिलाने का काम, किसी आपदा पीड़ित व्यक्ति की मदद करना जैसे सभी काम तहसीलदार को करने पड़ते हैं।

तहसीलदार बनने के लिए एलिजिबिटी क्या होनी चाहिए?

अगर आप एक तहसीलदार के पद पर जॉब करना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको 12th पास करना होता है उसके बाद ग्रेजुएशन कंप्लीट करना होता है ग्रेजुएशन में आप बीए, बीएससी, बीकॉम, बीसीए और बीटेक कुछ भी कर सखते है ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद आप तहसीलदार पद के लिए आवेदन कर सकते हैं और इसके लिए आपकी आयु 21 साल से 42 साल के बीच में होनी चाहिए।

तहसीलदार का प्रमोशन किस पद पर होता है?

अगर आप एक तहसीलदार के पद पर जॉब कर रहे हैं तो तहसीलदार के पद पर लगभग 8 से 15 साल तक काम करने के बाद आपका प्रमोशन उप जिला मजिस्ट्रेट के पद पर होता है उप जिला मजिस्ट्रेट के पद पर कुछ साल काम करने के बाद आपको डीएम बना दिया जाता है।

नायब तहसीलदार पद के लिए आवेदन कैसे कर सकते हैं?

अगर आप नायब तहसीलदार पद पर आवेदन करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको अपने राज्य की लोक सेवा आयोग की ऑफिसियल वेबसाइट (www.uppsc.up.nic.in/) पर जाना होता है वहाँ पर आपको इसकी लेटेस्ट वैकेंसीज मिल जाएगी जहाँ पर आप इसके बारे में पूरी जानकारी पढ़ सकते हैं और वहीं से आवेदन भी कर सकते हैं।

तहसीलदार पद के लिए भर्ती प्रक्रिया क्या है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तहसीलदार पद के लिए सभी राज्यों में भर्ती प्रक्रिया अलग-अलग रखी गई है और तहसीलदार पद के लिए डायरेक्ट कोई भर्ती नहीं निकलती है इसके लिए पहले आप नायब तहसीलदार बनते हैं इस पद पर तीन से 4 साल काम करने के बाद आपका प्रमोशन तहसीलदार के पद पर कर दिया जाता है।

इसे भी पढ़े: होटल मैनेजर कैसे बने?

नायब तहसीलदार पद के लिए आपको लोक सेवा आयोग द्वारा करवाई जाने वाली परीक्षा को पास करना होता है और ये परीक्षा UPPSC द्वारा कराई जाती है इसमें सबसे पहले प्रिलिमिनरी एग्जाम उसके बाद मेंस एग्जाम और लास्ट में इंटरव्यू कराया जाता है अगर आप इन तीनों स्टेप्स को पास कर लेते है तभी आपको नायब तहसीलदार के पद पर सेलेक्शन मिलता है।

प्रीलिमिनरी एग्जाम

इस परीक्षा का पैटर्न सभी राज्यों में अलग-अलग होता है कुछ राज्यों में इसमें दो पेपर कराए जाते हैं और कुछ राज्य में एक ही पेपर होता है।

जनरल स्टडीज़

इसमें पहला पेपर जनरल स्टडीज़ का होता है जिसमे 50 प्रश्न पूछे जाते हैं सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होते हैं और इसमें आपको 2 घंटे का समय मिलता है।

इसमें अर्थशास्त्र, सामयिक, पर्यावरण और पारिस्थितिकी, मध्यकालीन इतिहास, आजादी के बाद का इतिहास, सरकारी नीतियां और पहल, आधुनिक इतिहास, साइंस, राजनीति, भूगोल और संस्कृति से संबंधित प्रश्न आते हैं।

सिविल सर्विस ऐप्टिट्यूड टेस्ट

इसमें दूसरा पेपर सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट का होता है जिसमें आपको 200 नंबर के 100 प्रश्न करने होते है इसमें भी आपको 2 घंटे का समय दिया जाता है और सभी प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप होता है इन दोनों पेपर्स में 1/3 नेगेटिव मार्किंग भी होती है।

इस पेपर में 10th लेवल के प्रश्न आते हैं जिसमे मैथ, हिंदी, इंग्लिश, लॉजिकल एंड एनालिटिकल एबिलिटी, डिसीज़न मेकिंग एंड प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स, कॉम्प्रिहेंसिव और सामान्य बौद्धिक योग्यता से संबंधित प्रश्न आते हैं।

मेंस एग्जाम

अगर आप प्रिलिमिनरी एग्जाम को पास कर लेते हैं तो आपका सेलेक्शन मेन्स एग्जाम के लिए होता है मेंस एग्जाम में टोटल लास्ट पेपर होते हैं जिसमें शॉर्ट एंड लॉन्ग प्रश्न आते हैं ये सभी पेपर तीन 3 घंटे की कराए जाते हैं और मेंस एग्जाम में जनरल हिंदी, Essay, जनरल स्टडीज़ 1, जनरल स्टडीज़ 2, जनरल स्टडीज़ 3, जनरल स्टडीज़ 4 और 2 ऑप्शनल पेपर: पेपर 1 और पेपर 2 होते हैं।

जनरल हिंदी

इसमे कार्यालय आदेश, उपसर्ग एवं प्रत्यय, विलोम शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, शब्द ज्ञान एवं प्रयोग, तार लेखन, अधिसूचना, सरकारी और अर्धसरकारी पत्र लेखन, लोकोक्ति मुहावरे और बरतने एवं वाक्यांश शुद्धि से संबंधित प्रश्न आते हैं इस पेपर में आपको 3 घंटे का समय मिलता है और 150 नंबर के प्रश्न आते हैं।

Essay

इसमें तीन खंड होते हैं और सभी खंडों में तीन टॉपिक दिए होते हैं जिसमें से आपको हर एक टॉपिक पर 700-700 वर्ल्ड का Essay लिखना पड़ता है पर उसका समय 3 घंटे होता है और तीनों खण्ड 50-50 नंबर के होते हैं इससे पहले खंड में राजनैतिक क्षेत्र, सामाजिक क्षेत्र और साहित्य एवं संस्कृति से रिलेटेड सम प्रश्न आते हैं और दूसरे खंड में कृषि उद्योग एवं व्यापार, आर्थिक क्षेत्र, पर्यावरण प्रौद्योगिकी और विज्ञान से संबंधित ऋण आते हैं और इसके तीसरे खंड में राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रम, राष्ट्रीय विकास योजनाएं, फूल और प्राकृतिक आपदाओं से रिलेटेड प्रश्न आते हैं।

जनरल स्टडीज़ 1, जनरल स्टडीज़ 2, और जनरल स्टडीज़  3

इसमें प्राकृतिक संसाधन, वर्तमान घटनाएँ, सामान्य विज्ञान, जीवन शैली और भारतीय रिवाज, भारतीय भूगोल से संबंधित प्रश्न, विश्व भूगोल, भारतीय संस्कृति और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन, और भारतीय इतिहास से संबंधित आते हैं इसमें सभी पेपर 200 200 नंबर के होते हैं

जनरल स्टडीज़ 4

इस पेपर में एथिक्स से संबंधित 200 नंबर के प्रश्न आते हैं।

ऑप्शनल: पेपर 1 और पेपर 2

जिसमे टोटल 29 सब्जेक्ट होते हैं ये दोनों पेपर 200-200 नंबर के होते हैं इन 19 सब्जेक्ट्स में से आपको एक सब्जेक्ट चुनना होता है जिससे संबंधित प्रश्न आपके पेपर में आते हैं।

इंटरव्यू

अगर आप लिखित परीक्षा पास कर लेते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए कॉल आता है इंटरव्यू में आपके नॉलेज और कॉन्फिडेंस को चेक किया जाता है अगर आप इंटरव्यू पास कर लेते हैं तो आपको लोक सेवा आयोग द्वारा नायब तहसीलदार की पोस्ट पर नियुक्ति मिल जाती है और आपको ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है।

एक तहसीलदार को कितनी सैलरी मिलती है?

अगर आप किसी भी जिले में तहसीलदार के पद पर काम कर रहे हैं तो आपको हर महीने 60,000 से 80,000 रुपए के लगभग सैलरी मिलेंगी इसके अलावा अलग-अलग राज्यों के हिसाब से आपकी सैलरी भी अलग-अलग हो सकती है।

इसे भी पढ़े: स्टेशन मास्टर कैसे बने?

आज आपने क्या सीखा?

तो आज इस आर्टिकल में हमने आपको Tehsildar kaise bane in hindi से रिलेटेड पूरी जानकारी दी उम्मीद कर रहे हैं ये जानकारी आपको अच्छे से समझ में आ गयी होगी इसके अलावा अगर आप किसी नई नौकरी के बारे में इन्फॉर्मेशन लेना चाहते हैं तो हमें कमेंट में बता सकते हैं।

Leave a Comment