पति निखिल से बच्चों को अलग करने पर श्वेता बच्चन का छलका दर्द

0
Shweta Bachchan's pain over separation of children from husband Nikhil

Shweta Bachchan's pain over separation of children from husband Nikhil

आज हम आपको बतायेंगे कि क्या वजह है कि श्वेता बच्चन अपने बच्चों को निखिल नंदा से पति निखिल नंदा से दूर रखती है ऐसा नही है कि श्वेता बच्चन अपने बच्चों को दूर इसलिए नहीं रखती क्योंकि वो निखिल को अपने हस्बैंड को पसंद नहीं करती इसलिए नहीं रखती क्योंकि उनके हस्बैंड के साथ उनकी बैठती नहीं है बनती नहीं है ऐसा बिल्कुल नहीं है कि श्वेता और निखिल के बीच कभी तलाक जैसी स्थिति आई ऐसा कुछ नहीं है कि श्वेता और निखिल को एक दूसरे से मिलना पसंद नहीं है बिल्कुल ऐसा नहीं है कि अमिताभ और जया की लाडली श्वेता का निखिल अपने पति से रिश्ते में दरार के कारण अलग होना तय हुआ.

आराध्या ने तोड़ा बच्चन परिवार का नियम, दादी जया को झुकाया अपने आगे

कारण सिर्फ मजबूरियां थीं अलग प्रोफेशन थी श्वेता के सुहाने सपने थे जो मुंबई में बसे हुए थे और निखिल का प्रोफ़ेशन बिज़नेस से जुड़ा है जिसका तालुकात मुंबई से दूर दूर तक नहीं है इसलिए उन्हें दिल्ली में ही सेटल्ड रहना पड़ा है अपनी अरबों के बिज़नेस को वो अकेले संभाल रहे हैं और ये राज़ खुला कि अगस्त्य और नव्या जरूर अपने पिता के बिज़नेस से जुड़े लेकिन दिल से ही अपने पिता के बिज़नेस को ना तो नव्या और ना ही अगस्त्य संभालने के लिए जुड़ाव महसूस कर पाए दिल से पिता के बिज़नेस से नहीं जुड़ पाए हैं श्वेता के दोनों बच्चे.

बच्चन परिवार के काले कारनामे, ऐश्वर्या अमिताभ और अभिषेक के खुल गए पर्चे

इसी कारण से श्रद्धा के दोनों ही बच्चों को मुंबई में फिल्मी मोह माया के जिंदगी नें अपना बना लिया दादी घर के परिवार वालों के साथ रहकर भी नवा अगस्त्य ननिहाल की जिंदगी पसंद करते हैं यानी की जया और अमिताभ की लग्जरियस लाइफ स्टाइल के आदि हो गए हैं नव्या और अगस्त्य और यही फिल्मी नगरी ने उनके दिल को छुआ है जिससे जुड़ाव उनका हो गया है आइए जानते हैं कैसे श्वेता ने पति से अपने बच्चों को अलग सिर्फ और सिर्फ घर अलग में रखा है दिल से परिवार आज भी एक है.

Shweta Bachchan's pain over separation of children from husband Nikhil
Shweta Bachchan’s pain over separation of children from husband Nikhil

अपने पिता निखिल नंदा के साथ दिल्ली में क्यों नहीं रहते हैं नव्या और अगस्त्य ये बात श्वेता बच्चन ने बताई थी कारण ये है कि श्वेता बच्चन अपने बच्चों को अपनी नज़र से दूर नहीं छोड़ सकती थी जब वो दिल्ली में 16 साल तक अपनी शादी के 16 साल तक बतौर हाउस वाइफ पर्फेक्ट वाइफ और पर्फेक्ट मदर बनकर अपने परिवार की देखभाल कर रही थी जब उनके हस्बैंड निखिल के पास इतना समय नहीं हुआ करता था कि वो अपने बच्चों के साथ ज्यादा वक्त गुज़ार सकें हॉली डे के दिन जरूर वो बच्चो के साथ रहते हैं वरना रेग्युलर डेज़ पर वो इतने बीज़ी रहते है.

पैसों के लिए श्वेता बच्चन ने किया ऐसा काम, अमिताभ बच्चन की बेटी को पहली बार मिले बस….

अपनी इतनी बड़ी संपत्ति को संभालने और इतने बड़े कारोबार को संभालने में वो इतना बिज़ी रहते हैं कि उनके पास रात में घर आकर डिनर करने के अलावा एक मिनिट एक्स्ट्रा टाइम नहीं होता था किसी को देने के लिए श्वेता इसी चीज़ को एक्सेप्ट कर चुकी थी और कि उनके  हस्बैंड काम की वजह से इतना थक जाते है की घर आने के बाद उन्हें सिर्फ आराम चाहिए होता है तो ये जो निखिल नंदा की लाइफ स्टाइल थी यही कारण था कि श्वेता का ज्यादा समय अपने बच्चों के साथ गुजरता और सबसे ज्यादा श्वेता और निखिल में श्वेता ही अपने बच्चों का ख्याल रखती थीं.

बच्चों के साथ सबसे ज्यादा समय मॉम डैड में मॉम श्वेता ने ही गुज़ारा था नव्या और  अगस्त्य के साथ, ये बात अगस्त्य और नव्या भी बताते हैं कि उनकी मॉम किस तरह उनकी फॉन्ट रही है हमेशा कैसे जासूसी करती रही है वो अगस्त्य के बारे में लोग क्या कहते है नव्या के बारे में लोग क्या कहते हैं किस तरह उनके बच्चों को किया जाता है उनके लुक्स के लिए उनकी ड्रेस के लिए उनकी फिल्मों के लिए इस बार वो अक्सर उन्हें वाकिफ कराती है क्योंकि सोशल मीडिया पर श्वेता बहुत ज्यादा ऐक्टिव है.

ऐसे में हम आपको ये भी बताना चाहेंगे कि श्वेता नंदा बच्चन के बारे में करण ने रिवील किया था कि बहुत बड़ी जासूस है वो और टॉक्सिक उनका ये बिहेवियर है जिससे उनके बच्चे बहुत परेशान रहते हैं की कैसे उनकी मॉम उनकी लाइफ की ऐक्टिविटी के बारे में हमेशा जानने के लिए उसके पीछे पड़ी रहती है तो श्वेता की ये आदत जो अभी भी है इसलिए वो अपने बच्चों को दिल्ली नहीं छोड़ सकती थी वो मुंबई आई अपने सपनों को पूरा करने के लिए 16 साल बाद तो उन्होंने अपने बच्चों को भी अपने साथ मुंबई ले जाने का फैसला लिया.

इस वजह से जया बच्चन के साथ नहीं रहती पोती आराध्या बच्चन

इसी के साथ साथ आपको ये बताना चाहेंगे की श्वेता बच्चन ये कहती है की उन्हें अपने बच्चों के लिए बहुत इनसेक्योर मदर के तौर पर अपने लिए इस नेचर की वजह से काफी परेशानियां झेलनी पड़ती है लेकिन उनके अंदर ये जो इन्सेक्युरिटीज रही है बच्चों को लेकर ये डेवलप हुआ है उनके मॉम डैड से क्योंकी उनके पैरेन्ट्स भी ऐसे ही बहुत ज्यादा इनसेक्योर हुआ करते थे बच्चों को लेकर ओवर प्रोटेक्टिव हुआ करते थे इसलिए श्वेता के अंदर ये नेचर अपने पैरेंट से उन्हें मिला है ओवर प्रोटेक्टिव होने का जिसके कारण उन्होंने अपने बच्चों को मुंबई में ही अपने साथ रखने का फैसला लिया.

नतीजा अब निखिल नंदा को अपने बच्चों से दूर रहना पड़ा है इतना ही नहीं राजन नंदा के गुजर जाने के बाद पिछले तीन चार सालों में और भी ज्यादा बदलाव निकल की लाइफ में आया निखिल अपने बिज़नेस को आप अपने पिता के जाने के बाद और ज्यादा फुलफ्लेस तरीके से खुद संभाल रहे हैं और पिता के जाने के बाद उन्हें खुद से ही सब कुछ और भी जिम्मेदारियों की बढ़ गई है बिज़नेस के प्रति जिसके कारण वो अपने बच्चों के लिए पूरा समय उनके साथ ना रहने की वजह से उन्हें अपने से दूर रहने से ज़रा भी नाराजगी ज़ाहिर श्वेता पर नहीं करते.

48 साल की उम्र में इसलिए कुवारी हैं अमीषा पटेल, जानें पूरी खबर

यानी की आपसी अंडरस्टैंडिंग के साथ श्वेता और निखिल ने बच्चों को मुंबई में ही रहने देने का फैसला लिया इससे पहले फॉरेन में अपनी एजुकेशन नव्या और अगस्त्य ने कंप्लीट किया है ग्रेजुएशन फोरेन से कंप्लीट किया इसलिए भी निखिल को आदत हो गयी अपने बच्चों के बिना रहने की लेकिन श्वेता अपने बच्चों के घर आने के बाद उन्हें अपनी ज़िंदगी से दूर कभी भी नहीं कर पाई इसीलिए उन्होंने मुंबई में अपने बेटे और बेटी को अपने साथ ये रखा.

उनकी जिंदगी 16 साल तक बच्चों की परवरिश में ही गुजरी थी इसलिए अब अपने बच्चों से जुदा इस उम्र में उनके लिए होना बहुत कठिन हो गया था और उन्होंने बताया था कि वो इस कारण ही अपने बच्चों को अपनी लाइफ से अलग नहीं जाने दे सकती थी वैदसे आप इस खबर पर क्या कहेंगे हमें अपनी राय कमेंट करके जरूर बताएं बाकी और भी ऐसी ही अपडेट्स पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल और व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वॉइन करें.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *