पति निखिल नंदा से अलग हुई श्वेता बच्चन का छलका दर्द, अमिताभ ने उठाया बड़ा कदम

0
Shweta Bachchan's pain over separation from husband Nikhil Nanda, Amitabh took a big step

Shweta Bachchan's pain over separation from husband Nikhil Nanda, Amitabh took a big step

जी हाँ ये बात बिल्कुल सच है कि श्वेता नंदा बच्चन जलसा जब लौटी दिल्ली में 16 साल पति और परिवार के साथ रहने के बाद जब वो वापस मायका लौटी तो उनके मायका लौटने के बाद बच्चन परिवार में कई तरह के बदलाव हुए लेकिन बच्चन परिवार की बेटी श्वेता को मजबूरियों की वजह से ससुराल छोड़ना पड़ा पति का घर छोड़ना पड़ा पति का साथ छोड़ना पड़ा पति से अलग दूसरे घर पर शिफ्ट होना पड़ा मायके शिफ्ट होना पड़ा शादी के 16 साल में श्वेता और निखिल के बीच कभी भी रिश्ते में कोई भी नोक झोंक सुनने को नहीं मिली.

श्वेता बच्चन से अलग हुए पत्नी निखिल नंदा का ज़बरदस्त खुलासा, ससुर अमिताभ से कही ये बात

इनके बीच कभी दरार नहीं आए लेकिन प्रोफेशनलिज्म की वजह से श्वेता ने अपने सपनों को प्रायोरिटी जब 16 साल बाद दिया तो उन्होंने अपनी पर्सनल लाइफ में कई तरह की कुर्बानियां भी दी पति से दूर होने की वजह से कई तरह से आलोचनाओं से घिरी रही हैं श्वेता बच्चन तो आज हम बात करने वाले हैं कैसे श्वेता नंदा बच्चन ने किस तरह से अपनी पर्सनल लाइफ के सीक्रेट्स उजागर किए थे एक बार श्रद्धा से खुलकर पूछा गया था कि उनका दिनचर्या क्या है तो श्वेता ने इस बारे में खुलकर बात की थी.

सौतेली माँ हेमा मालिनी को सनी देओल ने दिया सबसे बड़ा तोहफ़ा

शादी के बाद उनका दिनचर्या बहुत बोरिंग होता था श्वेता ने कहा था कि उनकी लाइफ पूरी तरह से बोरिंग हो चुकी थी अपने लिए कुछ नहीं करती थी वो सुबह उठकर बच्चों के लिए ब्रेकफस्ट बनाना हस्बैंड निखिल के लिए सबकुछ तैयारी करना है उसके पास निखिल इतना ज्यादा बीज़ी रहते थे अपनी लाइफ में इतना ज्यादा अपने बिज़नेस की वजह से उनका स्केड्यूल हेक्टिक हो चुका था कि उनके पास अपनी पत्नी के साथ भी ज्यादा समय नहीं होता बात करने का और श्वेता के पास उनके बच्चे ही थे जिनसे वो दिल की अपनी सारी बाते करती थी.

Shweta Bachchan's pain over separation from husband Nikhil Nanda, Amitabh took a big step
Shweta Bachchan’s pain over separation from husband Nikhil Nanda, Amitabh took a big step

यही कारण है कि श्वेता निगल से अलग होने के बावजूद श्वेता निकल से अलग रहने के बावजूद ऐसा महसूस नहीं करती है कि वो उनसे अलग रह रही है क्योंकि एक घर में रहकर भी श्वेता और निखिल के बीच बाते नहीं होती थी क्योंकि निखिल इतना ज्यादा थक जाते थे पूरे दिन बाहर रहने के बाद अपने काम की वजह से हजारों करोड़ का बिज़नेस संभाल रहे हैं स्कॉट ग्रुप ऑफ़ प्राइवेट लिमिटेड के नाम से जिसके कारण वो घर आते तो सीधे उन्हें डिनर चाहिए होता और सीधा वो अपने बेडरूम में सीधे बिस्तर बचाते थे श्वेता कहीं ना कहीं इस जिंदगी को अपना चुकी थी यानी की हस्बैंड है लेकिन हस्बैंड के साथ उनका वक्त नहीं है.

इसलिए श्वेता ने अपने लिए भी सोचा और अपने लिए सोच कर वो मुंबई और मुंबई में शिफ्ट होने के बाद उनकी जिंदगी में कई बदलाव आए तो आज हम आपको बताएंगे कि जलसा लौटने के बाद श्वेता बच्चन की जिंदगी में किस तरह बदलाव आए और क्या कहना है उनका रियलिस्ट रीजन कुछ इंटरव्यूज में अपनी फैमिली लाइफ को लेकर किस तरह वो ससुराल वालों के साथ रिश्ते मेंटेन कर रही है और निखिल के साथ किस तरह वो अपनी शादीशुदा जिंदगी की कुर्बानी देकर सपनों की उड़ान भरने के लिए मुंबई आने के बाद परिवार से अलग रहकर बच्चन परिवार के बीच बच्चों की परवरिश कर रही है.

अभिषेक बच्चन को पापा नहीं ये मानना चाहती है आराध्या, जुड़ा एक और नया रिश्ता

सबसे पहले तो आपको बता दें कि श्वेता नंदा बच्चन जो खुद बच्चन बिहार की इकलौती बेटी हैं जिनके नाम पर अमिताभ बच्चन ने बहुत ही बड़ा बंगलो खड़ा कर दिया प्रतीक्षा अपना मकान उन्होंने श्वेता के नाम कर दिया अपनी हजारों करोड़ों की संपत्ति में बराबर का हिस्सा श्वेता और अभिषेक के बीच बांट दिया है वो यूं ही नहीं किया क्योंकि श्वेता ने एक बार कहा था कि फाइनेसियली इन्डिपेन्डेन्ट होना आज के समय में महिलाओं की बहुत ज्यादा जरूरत है निखिल नंदा की पत्नी बनने के बाद अरबों की संपत्ति की मालकिन तो श्वेता बनीं लेकिन उनकी खुद की कमाई हुई 1 भी दौलत नहीं थी.

जिसकी वजह से उन्होंने 16 साल के इंतजार के बाद दिल्ली छोड़ 16 साल शादीशुदा रिश्ते को निभाने के बाद दिल्ली छोड़कर ससुराल छोड़कर नंदा परिवार से सिर्फ रिश्ते रखने के साथ उन्होंने बच्चन परिवार के बीच लौटकर जलसा में लौटकर अपनी लाइफ फिर से शुरू की फैशन में उन्होंने अपने आपको आजमाया बतौर मॉडल और नोबलिस्ट काम करने के अलावा उन्होंने फैशन डिज़ाइनर के तौर पर काम किया और अपना एक स्टोर लॉन्च खोला मोनिशा जयसिंह की पार्ट्नरशिप के साथ एमएस स्टोर लॉन्च जिसके लिए श्वेता को मुंबई में शिफ्ट होना पड़ा.

लेकिन निखिल नंदा से उन्होंने रिश्ते नहीं तोड़े क्योंकि उनकी जिंदगी में कोई और नहीं था श्वेता ने कहा था कि वो अपनी बेटी नव्या को फाइनेंशियली इन्डिपेन्डेन्ट चाहती है क्योंकि वो इस बारे में समझ गयी 16 साल में की फाइनेंशियली इंडिपेंडेंट होना कितना ज्यादा जरूरत है चाहे आपके पास कितने भी पैसे हों लेकिन अपनी खुद की कमाये हुए पैसों से जो आप करेंगे उसकी खुशी ही अलग होती है जो आपकी पहचान खुद की होती है उसकी खुशी अलग होती है श्वेता नंदा बच्चन ने ये भी बताया कि वो अपने पिता को बीमार देखकर भी यहाँ रहने लगी.

जया बच्चन ने की ऐश्वर्या की तारीफ, तलाक के बीच दिया बहू का साथ

जी हाँ लॉकडाउन के वक्त अमिताभ बच्चन का ख्याल रखने के लिए श्वेता जलसा में खासकर रह रही थी और तब से वो काफी समय तक जलसा में रहने लगी उसके बाद अमिताभ ने उन्हें अपना प्रतीक्षा बंगलों दे दिया अपनी संपत्ति के आधे हिस्से अभिषेक के बाद श्वेता को बांट दिए जेंडर इक्वैलिटी को प्रोमोट करते हुए उन्हें निखिल ने भी श्वेता की ख्वाहिशें पूरी हों इसके लिए उन्हें अपने घर से जाने की इजाजत दी इसलिए इन दोनों का रिश्ता नहीं टूटा लेकिन ससुराल से अलग रहना सास ससुर के चले जाने के बाद परमानेंटली मुंबई में ही सेटल हो जाना श्वेता के लिए आसान नहीं था.

बॉलीवुड से दूर होकर भी बॉलीवुड का हिस्सा है वो क्योंकि बॉलीवुड की नामी भी फैमिली का उनका परिवार है और इसलिए उन्हें हमेशा अपनी पर्सनल लाइफ की वजह से क्रिटिसाइज किया गया कि क्या श्वेता ने अपने तलाक को छुपाया है क्योंकि बच्चन परिवार का वो हिस्सा है लेकिन श्वेता नंदा बच्चन ने तलाक नहीं लिया निखिल से वो पर्सनली अपने बच्चों के लिए मिलती है निखिल नंदा इतना व्यस्त रहते हैं कि उन्हें अपनी पत्नी के दूर रहने से इतना फर्क नहीं पड़ता और यही लाइफ स्टाइल श्वेता ने 16 साल अपने ससुराल में रहकर एन्जॉय किया.

लेकिन आखिर में उन्हें अपनी खुद की लाइफ बनाने के बारे में सोचा जिसके बाद वो परिवार से अलग हुईं और इस बारे में उन्होंने खुद से ही कहा फाइनेंशियली इनडिपेंडेंट सबसे बड़ी वजह थी उनके ससुराल से दूर जाने की वैसे इस पर आपकी क्या राय हैं हमें अपनी राय कमेंट में जरूर बताएं बाकी और भी ऐसी ही अपडेट्स पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल और व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वॉइन करें.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *